पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>सब चलता है<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>सब चलता है<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
----
 
----
{| width="100%" 
+
<center>
|-valign="top"
+
<poem style="width:360px; text-align:left; background:transparent; font-size:16px;">
| style="width:35%"|
+
| style="width:35%"|
+
<poem style="color=#003333">
+
 
इस दुनिया में बहुत कुछ बदलता है
 
इस दुनिया में बहुत कुछ बदलता है
 
बस एक ज़माना ही है
 
बस एक ज़माना ही है
पंक्ति 45: पंक्ति 42:
 
सब चलता है
 
सब चलता है
 
</poem>
 
</poem>
| style="width:30%"|
+
</center>
|}
+
 
|}
 
|}
  

15:03, 5 अगस्त 2017 के समय का अवतरण

Copyright.png
सब चलता है -आदित्य चौधरी

इस दुनिया में बहुत कुछ बदलता है
बस एक ज़माना ही है
जो कभी नहीं बदलता है
और बदले भी कैसे ?
जब इंसान का 
नज़रिया ही नहीं बदलता है

चलो कोई बात नहीं
सब चलता है

बंदर से आदमी बनने की बात तो 
झूठी लगती है
वो तो गिरगिट है 
जो माहौल के साथ रंग बदलता है 

वैसे तो आग का काम ही जलाना है
वो बात अलग है कि
कोई मरने से पहले
तो कोई मरने के बाद जलता है

और दम निकलने से मरने की बात भी झूठी है
कुछ लोग,
मर तो कब के जाते हैं
दम है कि बहुत बाद में निकलता है 

वस्त्रों की तरह 
आत्मा का शरीर बदलना भी
ग़लत लगता है मुझको
हाँ कपड़ों की तरह इंसान
चेहरे ज़रूर बदलता है

चलो कोई बात नहीं
सब चलता है
सब चलता है



सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: adityapost@gmail.com   •   फ़ेसबुक