पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>इससे तो अच्छा है <small>-आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>इससे तो अच्छा है <small>-आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
----
 
----
{| width="100%" 
+
<center>
|-valign="top"
+
<poem style="width:360px; text-align:left; background:transparent; font-size:16px;">
| style="width:35%"|
+
| style="width:35%"|
+
<poem style="color=#003333">
+
 
करना सियासत, तिजारत की ख़ातिर ।<ref>सियासत=राजनीति, तिजारत=व्यापार</ref>
 
करना सियासत, तिजारत की ख़ातिर ।<ref>सियासत=राजनीति, तिजारत=व्यापार</ref>
 
इससे तो अच्छा है नाक़ारा रहते ।।<ref>नाक़ारा=बेरोज़गार</ref>
 
इससे तो अच्छा है नाक़ारा रहते ।।<ref>नाक़ारा=बेरोज़गार</ref>
पंक्ति 28: पंक्ति 25:
 
इससे तो अच्छा है तुम चुप ही रहते ।।
 
इससे तो अच्छा है तुम चुप ही रहते ।।
 
</poem>
 
</poem>
| style="width:30%"|
+
</center>
|}
+
 
|}
 
|}
  

15:31, 5 अगस्त 2017 के समय का अवतरण

Copyright.png
इससे तो अच्छा है -आदित्य चौधरी

करना सियासत, तिजारत की ख़ातिर ।[1]
इससे तो अच्छा है नाक़ारा रहते ।।[2]

चूल्हे बुझाकर, अलावों का मजमा ।
इससे तो अच्छा है कुहरे में रहते ।।

गर है लियाक़त का आग़ाज़ सजदा ।[3]
इससे तो अच्छा है आवारा रहते ।।

महलों की खिड़की से रिश्तों को तकना ।
इससे तो अच्छा है गलियों में रहते ।।

ग़ैरों की महफ़िल में बेवजहा हँसना ।
इससे तो अच्छा है तन्हा ही रहते ।।

बेमानी वादों से जनता को ठगना ।
इससे तो अच्छा है तुम चुप ही रहते ।।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सियासत=राजनीति, तिजारत=व्यापार
  2. नाक़ारा=बेरोज़गार
  3. लियाक़त=तमीज़, आग़ाज़=शुरुआत

सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: adityapost@gmail.com   •   फ़ेसबुक