छो (Text replacement - "style="background:#fbf8df; border:thin groove #003333; border-radius:5px; padding:8px;"" to "class="table table-bordered table-striped"")
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>कुछ नहीं कहा<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>कुछ नहीं कहा<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
----
 
----
{| width="100%" style="background:transparent"
+
<center>
|-valign="top"
+
<poem style="width:360px; text-align:left; background:transparent; font-size:16px;">
| style="width:35%"|
+
| style="width:35%"|
+
<poem style="color=#003333">
+
 
बस कुछ नहीं कहा
 
बस कुछ नहीं कहा
 
अब कुछ नहीं रहा
 
अब कुछ नहीं रहा
पंक्ति 25: पंक्ति 22:
 
चल ये भी इक सहा  
 
चल ये भी इक सहा  
 
</poem>
 
</poem>
| style="width:30%"|
+
</center>
|}
+
 
|}
 
|}
  

13:56, 5 अगस्त 2017 के समय का अवतरण

Copyright.png
कुछ नहीं कहा -आदित्य चौधरी

बस कुछ नहीं कहा
अब कुछ नहीं रहा

     आँसू जो कम पड़ें तो
     ले ख़ून से नहा

अरसे से रुका दरिया
इस मोड़ पर बहा

     सपने में घर बनाया
     सपने में ही ढहा

यारी ग़मों से अपनी
चल ये भी इक सहा



सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: adityapost@gmail.com   •   फ़ेसबुक