पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>तख़्त बनते हैं<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>तख़्त बनते हैं<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
----
 
----
{| width="100%"
+
<center>
|-valign="top"
+
<poem style="width:360px; text-align:left; background:transparent; font-size:16px;">
| style="width:35%"|
+
| style="width:35%"|
+
<poem style="color=#003333">
+
 
तेरे ताबूत की कीलों से उनके तख़्त बनते हैं
 
तेरे ताबूत की कीलों से उनके तख़्त बनते हैं
 
कुचल जा जाके सड़कों पे, तभी वो बात सुनते हैं
 
कुचल जा जाके सड़कों पे, तभी वो बात सुनते हैं
पंक्ति 24: पंक्ति 21:
 
न जाने किस तरह भगवान ने इनको बनाया था
 
न जाने किस तरह भगवान ने इनको बनाया था
 
नहीं जनती है इनको मां, यही अब मां को जनते हैं
 
नहीं जनती है इनको मां, यही अब मां को जनते हैं
 
 
</poem>
 
</poem>
| style="width:30%"|
+
</center>
|}
+
 
|}
 
|}
  

15:08, 5 अगस्त 2017 के समय का अवतरण

Copyright.png
तख़्त बनते हैं -आदित्य चौधरी

तेरे ताबूत की कीलों से उनके तख़्त बनते हैं
कुचल जा जाके सड़कों पे, तभी वो बात सुनते हैं

गुनाहों को छुपाने का हुनर उनका निराला है
तेरा ही ख़ून होता है हाथ तेरे ही सनते हैं

न जाने कौनसी खिड़की से तू खाते बनाता है
जो तेरी जेब के पैसे से उनके चॅक भुनते हैं

बना है तेरी ही छत से सुनहरा आसमां उनका
मिलेगी छत चुनावों में, वहाँ तम्बू जो तनते हैं

न जाने किस तरह भगवान ने इनको बनाया था
नहीं जनती है इनको मां, यही अब मां को जनते हैं


टीका टिप्पणी और संदर्भ

सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: adityapost@gmail.com   •   फ़ेसबुक