पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>लहू बहता है<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
<div style="text-align:center; direction: ltr; margin-left: 1em;"><font color=#003333 size=5>लहू बहता है<small> -आदित्य चौधरी</small></font></div>
 
----
 
----
{| width="100%" 
+
<center>
|-valign="top"
+
<poem style="width:360px; text-align:left; background:transparent; font-size:16px;">
| style="width:35%"|
+
| style="width:35%"|
+
<poem style="color=#003333">
+
 
लहू बहता है तो कहना कि पसीना होगा
 
लहू बहता है तो कहना कि पसीना होगा
 
न जाने कब तलक इस दौर में जीना होगा
 
न जाने कब तलक इस दौर में जीना होगा
पंक्ति 25: पंक्ति 22:
 
वक़्त आने पे वो तेरा तो कभी ना होगा
 
वक़्त आने पे वो तेरा तो कभी ना होगा
 
</poem>
 
</poem>
| style="width:30%"|
+
</center>
|}
+
 
|}
 
|}
  

14:58, 5 अगस्त 2017 के समय का अवतरण

Copyright.png
लहू बहता है -आदित्य चौधरी

लहू बहता है तो कहना कि पसीना होगा
न जाने कब तलक इस दौर में जीना होगा

          'छलक ना' जाय सरे शाम कहीं महफ़िल में
          ये जाम-ए-सब्र तो हर हाल में पीना होगा

यूँ तो अहसास भी कम है चुभन का ज़ख़्मों की
तूने जो चाक़ किया तो हमें सीना होगा

          अब तो उम्मीद भी ठोकर की तरह दिखती है
          करना बदनाम यूँ किस्मत को सही ना होगा

यही वो शख़्स जो कुर्सी पे जाके बैठेगा
वक़्त आने पे वो तेरा तो कभी ना होगा


टीका टिप्पणी और संदर्भ

सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: adityapost@gmail.com   •   फ़ेसबुक