छो (Text replacement - "class="bharattable"" to "class="table table-bordered table-striped"")
 
(इसी सदस्य द्वारा किये गये बीच के 2 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
|
 
|
 
{| width=100% class="table table-bordered table-striped"
 
{| width=100% class="table table-bordered table-striped"
|-
 
! style="width:60%;"| पोस्ट
 
! style="width:25%;"| संबंधित चित्र
 
! style="width:15%;"| दिनांक
 
 
|-
 
|-
 
|
 
|
 +
; दिनांक- 24 अप्रॅल, 2014
 
<poem>
 
<poem>
 
विभिन्न क्षेत्रों में बंगाल के वासियों की अद्भुत क्षमता और प्रतिभा तो जगज़ाहिर है ही लेकिन मतदाता के रूप में भी हमारे बांग्ला बंधु, मतदान प्रतिशत में कीर्तिमान स्थापित करते रहते हैं।
 
विभिन्न क्षेत्रों में बंगाल के वासियों की अद्भुत क्षमता और प्रतिभा तो जगज़ाहिर है ही लेकिन मतदाता के रूप में भी हमारे बांग्ला बंधु, मतदान प्रतिशत में कीर्तिमान स्थापित करते रहते हैं।
पंक्ति 16: पंक्ति 13:
 
ये सवाल तो कोलकाता में जा बसे श्री जगदीश्वर चतुर्वेदी से भी पूछा जाना चाहिए... आख़िर मामला क्या है।
 
ये सवाल तो कोलकाता में जा बसे श्री जगदीश्वर चतुर्वेदी से भी पूछा जाना चाहिए... आख़िर मामला क्या है।
 
</poem>
 
</poem>
 
| 24 अप्रॅल, 2014
 
 
|-
 
|-
 
|
 
|
 +
; दिनांक- 21 अप्रॅल, 2014
 +
[[चित्र:Aditya-chaudhary-facebook-post-23.jpg|250px|right]]
 
<poem>
 
<poem>
 
इसी मैदान में उस शख़्स को फाँसी लगी होगी
 
इसी मैदान में उस शख़्स को फाँसी लगी होगी
पंक्ति 36: पंक्ति 33:
 
उसे अपनी शहादत ही बहुत फीकी लगी होगी
 
उसे अपनी शहादत ही बहुत फीकी लगी होगी
 
</poem>
 
</poem>
| [[चित्र:Aditya-chaudhary-facebook-post-23.jpg|250px|center]]
 
| 21 अप्रॅल, 2014
 
 
|-
 
|-
 
|
 
|
 +
; दिनांक- 21 अप्रॅल, 2014
 +
[[चित्र:Aditya-chaudhary-facebook-post-24.jpg|250px|right]]
 
<poem>
 
<poem>
 
लहू बहता है तो कहना कि पसीना होगा
 
लहू बहता है तो कहना कि पसीना होगा
पंक्ति 56: पंक्ति 53:
 
वक़्त आने पे वो तेरा तो कभी ना होगा
 
वक़्त आने पे वो तेरा तो कभी ना होगा
 
</poem>
 
</poem>
| [[चित्र:Aditya-chaudhary-facebook-post-24.jpg|250px|center]]
 
| 21 अप्रॅल, 2014
 
 
|-
 
|-
 
|
 
|
{| width=100% class="table table-bordered table-striped"
+
; दिनांक- 1 अप्रॅल, 2014
|- valign="top"
+
[[चित्र:Aditya-chaudhary-facebook-post-22.jpg|250px|right]]
|
+
 
<poem>
 
<poem>
 
बीते लम्हों की यादों से  
 
बीते लम्हों की यादों से  
पंक्ति 78: पंक्ति 72:
 
अब गर्भ में मुसकाये बिटिया
 
अब गर्भ में मुसकाये बिटिया
 
यह अंश, वंश से प्यारा है
 
यह अंश, वंश से प्यारा है
</poem>
+
 
|
+
<poem>
+
 
फ़ेयर ही लवली नहीं रहे
 
फ़ेयर ही लवली नहीं रहे
 
अनफ़ेयर यही अफ़ेयर हो  
 
अनफ़ेयर यही अफ़ेयर हो  
पंक्ति 95: पंक्ति 87:
 
मस्जिद में राम, मंदिर में ख़ुदा
 
मस्जिद में राम, मंदिर में ख़ुदा
 
हर मज़हब एक सहारा है
 
हर मज़हब एक सहारा है
</poem>
+
 
|
+
<poem>
+
 
सुबह आज़ान जगाए हमें
 
सुबह आज़ान जगाए हमें
 
मंदिर की आरती झपकी दे
 
मंदिर की आरती झपकी दे
पंक्ति 108: पंक्ति 98:
 
जय हो ! यह देश हमारा है  
 
जय हो ! यह देश हमारा है  
 
</poem>
 
</poem>
|}
 
| [[चित्र:Aditya-chaudhary-facebook-post-22.jpg|250px|center]]
 
| 1 अप्रॅल, 2014
 
 
|}
 
|}
 
|}
 
|}
पंक्ति 121: पंक्ति 108:
 
[[Category:आदित्य चौधरी फ़ेसबुक पोस्ट]]
 
[[Category:आदित्य चौधरी फ़ेसबुक पोस्ट]]
 
__INDEX__
 
__INDEX__
 +
__NOTOC__

16:00, 10 फ़रवरी 2017 के समय का अवतरण

फ़ेसबुक अपडेट्स

दिनांक- 24 अप्रॅल, 2014

विभिन्न क्षेत्रों में बंगाल के वासियों की अद्भुत क्षमता और प्रतिभा तो जगज़ाहिर है ही लेकिन मतदाता के रूप में भी हमारे बांग्ला बंधु, मतदान प्रतिशत में कीर्तिमान स्थापित करते रहते हैं।
क्या मछली खाने से अक़्ल ज़्यादा आती है।
ये सवाल तो कोलकाता में जा बसे श्री जगदीश्वर चतुर्वेदी से भी पूछा जाना चाहिए... आख़िर मामला क्या है।

दिनांक- 21 अप्रॅल, 2014
Aditya-chaudhary-facebook-post-23.jpg

इसी मैदान में उस शख़्स को फाँसी लगी होगी
तमाशा देखने को भीड़ भी काफ़ी लगी होगी

जिन्हें आज़ाद करने की ग़रज़ से जान पर खेला
उन्हीं को चंद रोज़ों में ख़बर बासी लगी होगी

बड़े सरकार आए हैं, यहाँ पौधा लगाएँगे
हटाने धूल को मुद्दत में अब झाडू लगी होगी

शहर में लोग ज़्यादा हैं जगह रहने की भी कम है
इसी को सोचकर मैदान की बोली लगी होगी

यहाँ तो ज़ात और मज़हब का अब बाज़ार लगता है
उसे अपनी शहादत ही बहुत फीकी लगी होगी

दिनांक- 21 अप्रॅल, 2014
Aditya-chaudhary-facebook-post-24.jpg

लहू बहता है तो कहना कि पसीना होगा
न जाने कब तलक इस दौर में जीना होगा

'छलक ना' जाय सरे शाम कहीं महफ़िल में
ये जाम-ए-सब्र तो हर हाल में पीना होगा

यूँ तो अहसास भी कम है चुभन का ज़ख़्मों की
तूने जो चाक़ किया तो हमें सीना होगा

अब तो उम्मीद भी ठोकर की तरह दिखती है
करना बदनाम यूँ किस्मत को सही ना होगा

यही वो शख़्स जो कुर्सी पे जाके बैठेगा
वक़्त आने पे वो तेरा तो कभी ना होगा

दिनांक- 1 अप्रॅल, 2014
Aditya-chaudhary-facebook-post-22.jpg

बीते लम्हों की यादों से
अब उठें, भव्य उजियारा है
इस नए साल को, यूँ जीएँ
जैसे संसार हमारा है

हम जीने दें और जी भी लें
विश्वास जुटा कर उन सब में
जो बात-बात पर कहते हैं
हमको किस्मत ने मारा है

अब रहे दामिनी निर्भय हो
निर्भय इरोम का जीवन हो
अब गर्भ में मुसकाये बिटिया
यह अंश, वंश से प्यारा है

फ़ेयर ही लवली नहीं रहे
अनफ़ेयर यही अफ़ेयर हो
काली मैया जब काली है
तो रंग से क्यों बंटवारा है

ये ज़ात-पात क्या होती है
माता की कोई ज़ात नहीं
यदि पिता ज़ात को रोता है
तो कैसा पिता हमारा है

जाने कब हम ये समझेंगे
ना जाने कब ये जानेंगे
मस्जिद में राम, मंदिर में ख़ुदा
हर मज़हब एक सहारा है

सुबह आज़ान जगाए हमें
मंदिर की आरती झपकी दे
सपनों में ख़ुदा या राम बसें
मक़सद अब प्रेम हमारा है

सहमी मस्जिद को बोल मिलेें
मंदिर भी अब जी खोल मिलें
गिरजे गुरुद्वारे सब बोलें
जय हो ! यह देश हमारा है

शब्दार्थ

संबंधित लेख

सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: adityapost@gmail.com   •   फ़ेसबुक